Saturday, 5 November 2016

Lyric: खो जाने दे..! // Kho jaaney De..!



Kho Jaane De..!! खो जाने दे..!!

Aaj Mujhe Tu, Apni Goad Mein..Sar Rakh Ke, 
Kuch Pal Ke Liye..Yun Kho Jaaney De....!

आज मुझे तू, अपनी गोद में.. सर रख के, कुछ पल के लिए.. यूँ खो जाने दे...!

Ek Pal Ke Liye Sahi, Har Lmha Madhosh..Yun Ho Janey De...!

एक पल के लिए सही, हर लम्हा मदहोश..यूँ हो जाने दे..!!

Jis Tarah Badalon Mein,  Chhup Jata Hai Chaand...
Aaj Apni Zulfon mein, Mujhe Bhi Gum.. Yun Ho Jaaney De...!

जिस तरह बादलों में, छुप जाता है चाँद..आज अपनी ज़ुल्फ़ों में, मुझे भी गुम.. 
यूँ हो जाने दे..!!

Khushnuma mausam mein, Iski Ranginiyat mein,
Apni Saanson Ko, Meri Saanson Mein..
Yun Ghul Jaaney De..!

खुशनुमा मौसम में, इसकी रंगीनियत में..
अपनी साँसों को, मेरी साँसों में..यूँ घुल जाने दे..!!

©Abhilekh
#Abhilekh



Wednesday, 2 November 2016

Pre-tuned Lyrics: लत लग गयी // Lat Lag Gayi!!



Lat Lag Gayi // लत लग गयी।

कुछ इस क़दर, मुझे तेरी, चाहत हुई ..
की तेरे साथ, के लिए ,
तेरी परछाई, बने रहने की, लत लग गयी ...!
मुझे तो तेरी लत लग गयी!!

Kuchh is kadar, mujhe teri, chahat hui..
Ki tere saath, ke liye,
Teri parchhayi, bane rahne ki, lat lag gayi..!
Mujhe to, teri lat, lag gayi!!

तू मुड़ के, भी न देखे ..
और छुप के, यूँ ही शर्माए ,
मुझे तो तेरे, झलक की, तलब लग गयी ...!
मुझे तो तेरी लत लग गयी!!

Tu mud ke, bhi na dekhe..
Aur chhup ke, yun hi sharmaaye,
Mujhe to tere, jhalak ki, talab lag gayi..!
Mujhe to, teri lat, lag gayi?!!

फिज़ा तो, तुझ पे, फ़िदा है ..
तुझे, अपनाने, के लिए,
अपनी तो, उस खुदा से, शर्त लग गयी ...!
मुझे तो तेरी लत लग गयी!!

Fizaa to, tujh pe, fidaa hai..
Tujhe, apnaane, ke liye,
Apni to, us khudaa se, shart lag gayi..!
Mujhe to, teri lat, lag gayi!!

©Abhilekh


Tuesday, 1 November 2016

Lyric: साथ चलते हैं।


Aao kuch dur, saath chalte hai,
Na aage, na piche, bas kadam se kadam..
Dekhte hain kitni dur saath chalte hain..!!

आओ कुछ दूर, साथ चलते हैं, न आगे, न पीछे, बस कदम से कदम..
देखते हैं, कितनी दूर, साथ चलते हैं..!!

Na haathon mein, haath daal ke,
Magar parchayion mein, saath ban ke..
Dekhte hain kitni dur saath chalte hain..!!

न हाथों में, हाथ डाल के, मगर परछाइयों में, साथ बन के..
देखते हैं, कितनी दूर, साथ चलते हैं..!!

Na Aankhon mein, aankhein daale,
Nazaaron ka bas yun hi lutf lete..
Dekhte hain kitni dur saath chalte hain..!!

न आँखों में, आँखें डाले, नज़ारों का बस, यूँ ही लुत्फ़ लेते..
देखते हैं, कितनी दूर, साथ चलते हैं..!!

Na manzil ki, talaash mein,
Na pehchaane se, raaston Mein..
Dekhte hain kitni dur saath chalte hai..!!

न मंज़िल की, तलाश में, न पहचाने से, रास्तों में..
देखते हैं, कितनी दूर, साथ चलते हैं..!!

Thora Tum Aazmao Mohabbat Ko, 
Thora Hamein Bhi Aazmane Do..
Dekhte hain Mohabaat Ke Safar Mein,
Ham kitni dur saath chalte hain..!!

थोड़ा तुम आज़माओ मोहब्बत को, थोड़ा हमें भी आज़माने दो..
देखते हैं मोहब्बत के सफ़र में, हम कितनी दूर साथ चलते हैं..!!

©Abhilekh


About Me

My photo
India
Complicated माहौल में simple सा बंदा हूँ। दूरियाँ तो जायज़ है फिर भी ऐसे हमेशा करीब हूँ। कुछ लिख कर, कुछ पढ़कर, सबसे कुछ सीख कर, अकेला ही सही, एक मंज़िल के लिए निकला हूँ।